पर ऐसा हो क्यों रहा है जरा ये भी समझ लीजिए….

बहुत ही बड़ा कदम बता कर लागू की गयी नोटबंदी में 100 ज्यादा लोगों की जाने जाती हैं इसके बावजूद इस नोटबंदी का नतीजा ये निकलता है बैंकों का NPA बढ़ जाता है जो इस बात का सीधा सबूत है कि नोटबंदी पूरी तरह फेल साबित हुई विकास दर लगभग 1.5% तक गिर जाती है !

मध्य रात्री में GST बिल पास किया जाता है इसका भी महिमा मंडन करते हुये इसे भी ऐतिहासिक दिन बताया जाता है यहाँ कि इसे आजादी के बाद की आजादी तक घोषित कर दिया जाता है नतीजा नोटबंदी के बाद मंदी की मार झेल रहा बाजार पूरी तरह धाराशाई हो जाता है, आनन फानन में संशोधन पर संशोधन किये जाते हैं पर नतीजा सिफर ही रहा महंगाई दर बेतहाश बढ़ जाती है !

आँकड़े बाजियों के चलते शेयर बाजार रिकॉर्ड स्तर पर हा इसके बावजूद भी कारोबारियों में भय का माहौल है शेयर बाजार का ये उछाल पूरे तौर पर अस्थाई बताया जा रहा है,अचानक से इसके नीचे आने की पूरी संभावना है !

अंतराष्ट्रीय बाजार में दाम नीचे जाने के बावजूद भी पेट्रोल के दाम लगातार ऊपर गये अब अंतराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम ऊपर जाना शुरू हो चुके हैं आज रात से इसमें सरकार की तरफ से भी सेंस लागू कर दिया गया है,जिसके बाद दाम और ऊपर जाने की पूरी संभावना है !

नोटबंदी और GST के बाद बाजार में आई मंदी के नतीजे में लाखों लोगों की नौकरियाँ जा चुकी हैं,जो सरकार हर साल दो करोड़ रोजगार देने के वादे पर सत्ता में आई थी आज पूरे तौर पर बैक फुट पर है संविदा शिक्षकों से लेकर रेलवे कर्मचारियों तक की भर्तियों पर रोक लगाई जा चुकी है,कब इनकी नौकरियाँ पक्की होंगी इसका कोई जवाब अब तक सरकार के पास नहीं है!

दंगा भड़काऊ पत्रकारों की तरफ से नोटबंदी के महिमा मंडन में यहाँ तक कहा गया था कि नये नोटों में सरकार की तरफ से GPS सिस्टम आधारित चिप लगाई गयी हैं जिससे इन नोटों के रूप में काला धान इकठ्ठा नहीं किया जा सकेगा !

आने वाले साल 2019 में चुनाव होना तय है सरकार की तरफ से ठोस रूप से एक भी ऐसा कदम नहीं उठाया गया जो सीधे तौर पर जनता के हित में हो उल्टा महंगाई अपनी चरम सीमा पर है !

अभी हाल में संपन्न गुजरात चुनाव में देखा गया है सीधे तौर पर सत्ताधारी दल की तरफ से सांप्रदायिक चुनाव प्रचार किया गया और वो कामयाब रहा सत्ताधारी दल अब सीधे तौर पर वही सफल प्रयोग इस आम चुनाव में आजमाना चाहता है,अगर ऐसा नहीं होता तो क्या वजह है कर्फ्यू और एक तरफा पुलिसिया कार्यवाही के बावजूद लगातार दंगाई अपने मंसूबों में कामयाब हो रहे हैं?

घटना स्थल के एक वीडियो में सत्ताधारी दल की तरफ से घटना स्थल के क्षेत्र के सांसद साफ तौर पर जनता को भड़काऊ बयान देते नजर आ रहे हैं, अगर आप इसे अब भी हिंदू मुस्लिम दंगा समझ रहे हैं तो मुझे तरस आता है आपकी बुद्धी पर !

सयैद असलम अहमद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here