“चुपचाप बैठो वहाँ जाके, इनको स्क्रीन से हटाओ, मुझे ड्रामा नहीं चाहिए, बैठो चुपचाप, चुपचाप बैठो वहाँ जाकर, अपने आप बैठ जाओ…” ये किसी टीआरपी के मारे रियलिटि शो के डायलॉग नही हैं बल्कि देश के सभ्य पत्रकारों में शुमार एक एंकर की भाषा है। न्यूज़ 18 के चर्चित शो ‘हम तो पूछेंगे’ में पत्रकार सुमित अवस्थी शो के एंकर की भूमिका में थे और इस शो की चर्चा का केंद्र था राहुल गांधी और लालू यादव की मुलाक़ात। बता दें कि हाल ही में काँग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव से मिलने के लिए अस्पताल गए थे।

इस डिबेट के लिए काँग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी, भाजपा की तरफ से शाहनवाज़ हुसैन और राजनीतिक विश्लेषक मनीषा प्रियम शामिल हुई थी। साथ ही आरजेडी और जेडीयू के प्रवक्ता भी थे।
शो के दौरान सुमित अवस्थी ने राजीव त्यागी से सवाल किया कि जब 2013 में राहुल गांधी ने खुद भ्रष्टाचार को लेकर आए अध्यादेश को फाड़ दिया था तो 2018 में वो लालू प्रसाद यदाव से क्यूँ मिले। अवस्थी ने आरोप लगाए कि राहुल भ्रष्टाचारी लालू यादव की शरण में चले गए हैं। इस पर त्यागी ने सफाई दी कि राहुल गांधी ने ये कदम किसी राजनैतिक स्वार्थ क चलते नहीं उठाया। वो इंसानियत के नाते लालू यादव से मलने गए थे। राहुल देश के हर बड़े का सम्मान करते हैं, यहाँ तक कि आडवाणी जी हमारे चिर विरोधी हैं पर राहुल उन्हे भी भीड़ में पीछे देखकर आगे ले आते हैं। विचारधारा में कितना भी मतभेद हो मगर वो आचरण नहीं भूलते।

पत्रकार सुमित अवस्थी काँग्रेस प्रवक्ता त्यागी की इस सफाई से राज़ी नहीं हुए और उन्होने दूसरा सवाल दाग दिया कि अगर राहुल इतने ही संस्कारी हैं तो वो ओम प्रकाश चौटाला (हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री) से जेल में मिलने क्यूँ नहीं गए। जिस पर त्यागी ने अवस्थी को ईमानदार पत्रकारिता करने की ताकीद दी। उन्होने जज लोया की मौत, अमित शाह के बेटे जय शाह और राफेल सौदे जैसे मुद्दों पर चर्चा करने की चुनौती दे दी।
बहस इतनी बढ़ गयी कि काँग्रेस प्रवक्ता अपनी सीट से उठकर सुमित अवस्थी के करीब आ गए, जिसपर अवस्थी ने उन्हे चुपचाप सीट पर बैठने की ताकीद दी और अपने दाए हाथ से उनके हाथ पर थप्पड़ मारा।

इस घटना के बाद कांग्रेस प्रवक्ता अपनी सीट पर बैठ गए और उन्होने कहा मैंने आपको आईना दिखाया और आप मुझे मार रहे हैं, लेकिन राफेल पर बहस करने को तैयार नहीं। जिसके जवाब में सुमित अवस्थी ने कहा कि “तमीज़ में रहो।“

यहाँ देखें वो वीडियो जिसमे 33 सेकंड पर ये घटना हुई है।

अब तक इस वीडियो पर चैनल या काँग्रेस की तरफ से कोई बयान नही आया है। लेकिन हम उम्मीद करेंगे कि पत्रकारिता के नीचे गिरने का ये आख़री स्तर हो।

महविश रज़वी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here