बुधवार को विवादित इस्लामिक उपदेशक ज़ाकिर नाइक के भारत लौटने की अटकलें शुरू हुई थी लेकिन ऐसा हुआ नहीं। शुक्रवार को मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने इस मामले में बड़ा बयान दिया है। मोहम्मद ने कहा कि ज़ाकिर नाइक को प्रत्यर्पित नहीं किया जाएगा। बता दें कि ज़ाकिर पर आतंकी गतिविधियां और नफरत फैलाने वाले उपदेश देने का आरोप है। वह काफी समय से मलेशिया में है।

मोहम्मद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ” जब तक वह हमारे देश में कोई दिक्कत खड़ी नहीं कर रहे हैं तब तक हम उनका प्रत्यर्पण नहीं करेंगे, क्योंकि हमने उन्हें यहां स्थायी रूप से रहने की इजाज़त दी है। ज़ाकिर को मलेशिया की नागरिकता प्राप्त है।” मीडिया में मलेशियाई प्रधानमंत्री से ज़ाकिर के प्रत्यर्पण को लेकर आ रहीं खबरों पर सवाल किया गया था।

दूसरी तरफ 52 वर्षीय ज़ाकिर नाइक ने भी अपने प्रत्यर्पण की खबरों को बेबुनियाद बताया है। उसका कहना है कि जब तक उसे नहीं लगता कि वह ‘गलत मुकदमे से सुरक्षित’ है तब तक वह भारत नहीं लौटने वाला। बुधवार को ज़ाकिर ने कहा कि अभी मेरा भारत आने का कोई प्लान नहीं है, जब तक निष्पक्ष सुनवाई नहीं होगी तब तक मैं नहीं आऊँगा। इसके अलावा नाईक ने कहा कि जब मुझे लगेगा कि भारत में निष्पक्ष सरकार है वह तभी भारत वापस आएगा।

आपको बता दें कि ज़ाकिर के भारत लौटने की लगातार अटकलों की वजह से मलेशिया के विदेश मंत्रालय ने आधिकारिक बयान देकर साफ किया कि ये खबरें सही नहीं हैं। बाद में ज़ाकिर नाईक का भी बयान आया कि वह भारत नहीं आ रहा है।

गौरतलब है कि एनआईए ने 18 नवंबर 2016 को अपनी मुंबई शाखा में डॉक्टर नाइक के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (UAPA) और भारतीय दंड विधान की धारा 20 (b), 153 (a), 295 (a), 298 and 505 (2) के तहत आरोप तय किए थे।
2016 में बांग्लादेश में आतंकी हमले को अंजाम देने वाले कुछ आतंकियों ने ज़ाकिर के भाषणों से प्रेरित होने की बात कही थी. उसके बाद वो 1 जुलाई, 2016 को तीर्थ यात्रा के लिए भारत से सऊदी अरब चला गया था. फिर नवंबर 2016 में एनआईए ने ज़ाकिर के खिलाफ केस दर्ज किया और दिसंबर 2016 में उसके एनजीओ को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बैन कर दिया था. एनआईए ज़ाकिर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग और आतंक के मामले में भी जांच कर रही है।

एनआईए ने ज़ाकिर पर देश में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का भी आरोप लगाया था। आतंकी संगठन ISIS में शामिल होने के लिए देश छोड़ने वाले भारतीय युवकों ने भी भारतीय एजेंसियों को बताया था कि वे जाकिर के भाषण से प्रभावित थे। ज़ाकिर नाइक का निजी चैनल पीस टीवी कई देशों में बैन है।

हिंदी गैजेट टीम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here