14 फरवरी को हुए फुलवामा हमले के बाद भारत सरकार ने कड़ी झड़प लगाते हुए पाकिस्तान को कहा है कि वह जैश-ए-मुहम्मद जैसे आतंकी संगठन को फूलने-फलने की पूरी आजादी देता है। 14 फरवरी को पुलवाना हमले मे 40 से ज्यादा भारतीय CRPF जवान शहीद हुए थे। घटना को अंजाम देने के लिए बारूद से भरी कार का इस्तेमाल किया गया था। इसके बाद पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद ने इसकी जिम्मेदारी ली थी। 

Maulana Masood Azhar, head of Pakistan’s militant Jaish-e-Mohammad party

विदेश मंत्रालय ने इस घटना को ‘कायरतापूर्ण’ बताया है। “जैश- ए- मुहम्मद एक आतंकवादी गिरोह है जिसके सरगना मसूद अजहर को पाकिस्तान सरकार ने रहने और अपना गिरोह बढ़ाने की पूरी आजादी दे रखी है जिस से वह भारत और पूरी दुनिया में आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रहा है… भारत सरकार अपने लोगों की सुरक्षा के लिए हर फैसला लेने के लिए तैयार है। हम पाकिस्तान से मांग करते हैं की वह आतंकियों को शरण देना बंद करे और जल्द से जल्द उनके ठिकानों को ध्वस्त करे”, विदेश मंत्रालय ने बयान दिया। इसके साथ ही विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मसूद अजहर को अंतराष्ट्रिय आतंकवादी घोषित करने की मांग भी की है।

statement from pakistan

 बताते चलें की में पठानकोट हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान से दोतरफा बातचीत बंद कर दी थी। इसके जवाब मे पाकिस्तान सरकार ने इस हमले की निंदा करते हुए कहा है कि ऐसे हमले की पाकिस्तान निंदा करता है। हालाँकि जैश-ए- मुहम्मद को किसी भी तरह की मदद और बढ़ावा की बात से पाकिस्तान सरकार ने साफ मना किया है। 

Shafaque zehra

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here