तस्वीर गूगल से ली गयी है
हाल ही में श्रीलंका और साउथ अफ्रीका के बीच हुई टेस्ट सीरीज में श्रीलंका ने साउथ अफ्रीका को उसी के घर के अंदर उसे मात देदी,और यह वो काम था जो इससे पहले एशिया महाद्वीप की कोई टीम नहीं कर पाई थी। और इस सीरीज में सबसे अहम भूमिका अदा की “कुसल परेरा” ने इन्होंने पहले टेस्ट मैच में मिले 304 रन के टारगेट को जो कि एक वक्त नामुमकिन लग रहा था 153 रनो की शानदार पारी खेलते हुए आखरी विकेट के लिए 75 रन जोड़े जोकि उन्हें जीत तक ले गए।
तस्वीर गूगल से ली गयी है
 इसके बाद अब दूसरे मैच जीत कर श्रीलंका को इतिहास रचना था और श्रीलंका ने अपने ज़बरदस्त हौसले से और बेहतरीन बोलिंग और बैटिंग का प्रदर्शन करते हुए इस बार भी वो जीत हासिल करने में कामयाब रहे उन्होंने 4th इनिंग मिला 197 रन का टारगेट आसानी से महज़ 2 विकेट खोकर बना लिया 4th इनिंग में टारगेट चेस करना इतना मुश्किल है ये सभी जानते है ,और ये काम भारत जैसी मज़बूत टीम भी अफ्रीका में के 200 रन नहीं चेस कर पाई थी। मगर श्रीलंका के “कुसल मेंडिस” और “फ़र्नाडो” ने शानदार 163 रनों की पार्टनरशिप निभा कर श्रीलंका को 8 विकेट से  ऐतिहासिक जीत दिलवाई।
तस्वीर गूगल से ली गयी है
वैसे हाल का कुछ वक़्त टेस्ट क्रिकेट के लिए बहुत की अच्छा गुज़रा है ,इस मिथ पर या कहें ट्रेंड पर थोड़ी चोट लगी की हर टीम घर में अच्छा खेलती और बाहर खराब जैसे देखे तो 49 साल बाद न्यूज़ीलैंड ने पाकिस्तान को अपने घर से बाहर टेस्ट सीरीज में मात दी।और वही दूसरी तरफ भारत 71 साल बाद ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में मात दी हालांकि लोग मानते ऑस्ट्रेलिया की टीम कमज़ोर थी मगर जब टेस्ट क्रिकेट की इतिहास के पन्ने पलटे जायेंगे तो उसमें भारत की जीत का ज़िक्र होगा नाकि कौनसी टीम कमज़ोर या मज़बूत थी इसका जिक्र होगा।
मगर कुछ भी श्रीलंका ने सबको हैरान कर दिया इस जीत के साथ जिस देश के टेस्ट क्रिकेट खेलने पे सवाल उठने लगे थे उम्मीद करते है ये जीत श्रीलंका क्रिकेट को फिर से खड़ा कर देगी और आने वाले विश्व कप 2019 में श्रीलंका की टीम अलग और मजबूत नज़र आएगी और क्रिकेट के लिए ये बहुत ज़रूरी ज क्योंकि श्रीलंका वो टीम है जिसने बहुत जल्दी तरक्की की अपना पहला एकदिवसीय  मैच 1975 वर्ल्ड कप खेला और महज़ 30 साल बाद 1996 में अर्जुन रणतुँगा की कप्तानी में वर्ल्ड कप जीत कर पूरे विश्व क्रिकेट को हैरान कर दिया। दो देखते ये जीत श्रीलंका क्रिकेट के लिए क्या क्या लेकर आती है।
नोट:- लेखक जामिया मिल्लिया के छात्र हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here