credit-news4nation

किसी अपराधी को फांसी देने के लिए एक विशेष नियमावली का पालन किया जाता है। उसके अनुसार ही किसी को फांसी पर लटकाया जाता है। क्या है यह नियमावली, पाठकों की सुविधार्थ हम प्रकाशित कर रहे हैं:

राज्य सरकार द्वारा फांसी का दिन का तय करने के बाद जेल अधीक्षक कैदी के परिजनों को सूचना देते हैं।

कैदियों के रिश्तेदारों को या दूसरे कैदियों के रिश्तेदार फांसी के वक्त मौजूद नहीं रह सकते। केवल, समाज—शास्त्री उनकी इच्छा होने पर कारागृह अधीक्षक, वह अनुमति दे सकते हैं।

कारागृह की सुरक्षा व्यवस्था और नियमों को ध्यान में रखते हुए कैदी को श्रद्धास्थान पर प्रार्थना करने का मौका दिया जाता है।

फांसी देने के पहले अपराधी से अंतिम इच्छा पूछी जाती है और सूर्योदय के आसपास फांसी दी जाती है।

फांसी के दिन उस कारागार के अधीक्षक, उप अधीक्षक, सहायक अधीक्षक और चिकित्सा अधिकारी उपस्थित रहते हैं। जिला दंडाधिकारी द्वारा चुने गए कार्यपालिक दंडाधिकारी फांसी देते समय खुद मौजूद रहकर वारंट पर हस्ताक्षर करते हैं।

फांसी के पूर्व कैदी को पसंदीदा पदार्थ खाने में दिए जाते हैं। दूसरे दिन फांसी देने के दो घंटे पहले उठाकर स्नान कराया जाता है। नए वस्त्र पहनने को दिए जाते हैं।

काल—कोठरी से बाहर निकालते वक्त उसके चेहरे पर नकाब पहनाया जाता है और दोनों हाथ पीछे से बांधे जाते हैं। किसी भी परिस्थिति में वह फांसी की तैयारी न देख पाए, इस बात का ध्यान रखा जाता है।

फांसी दिए जाने के मृत शरीर को आधे घंटे तक वैसे ही रखा जाता है और चिकित्सा अधिकारी द्वारा मृत होने का प्रमाण—पत्र दिए जाने के बाद उसे नीचे उतारा जाता है।

कैदी के धर्म की परंपरा के मुताबिक, कैदी का अंतिम संस्कार किया जाता है। कैदी के परिजनों की लिखित विनती पर शव उनके सुपुर्द कर दिया जाता है। केवल, अंतिम संस्कार सार्वजनिक तौर पर न करने का प्रतिबंध उन पर लगाया जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here