चमोए थिप्यासो credit-social media

60 की उम्र पार करने के बाद इंसान का बुढ़ापा आ जाता है। वहीं बहुत ही मुश्किल से कोई इंसान 80 से 100 साल की उम्र तक जी पाता है। लेकिन ऐसे में किसी अपराधी को अदालत के द्वारा हजारों-लाखों साल की जेल में रहने की सजा सुना दी जाए, तो जाहिर है कि कोई भी हैरान हो सकता है। आज हम आपको कुछ ऐसे ही अपराधियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें उनके अपराध के लिए अदालत की ओर से हजारों-लाखों साल की सजा सुनाई गई है।

credit-pixababy

थाईलैंड की चमोए थिप्यासो नामक महिला दुनिया की सबसे लंबी जेल की सजा पाने वालों में से एक है। उसे साल 1989 में अदालत द्वारा 1,41,078 साल की सजा सुनाई गई थी। दरअसल, थिप्यासो को एक पिरमिड स्कीम में 16,231 लोगों के करीब 19 करोड़ रुपये का चूना लगाने का दोषी पाया गया था। हालांकि, इस घटना के बाद थाईलैंड में एक कानून पास हुआ कि धोखाधड़ी के मामले में अपराधी को कितनी भी लंबी सजा क्यों न सुनाई गई हो, उसे 20 साल से अधिक जेल में नहीं रखा जा सकता है।

साल 1994 में एलन वेन मैकलॉरिन नाम के एक शख्स को कई मामलों में दोषी करार दिया गया था। ऐसे में उसे कुल 21,250 साल की सजा मिली थी। एलन को रेप के चार मामलों में कुल आठ हजार साल, जबरन अप्राकृतिक संबंध बनाने के चार मामलों में आठ हजार साल, अपहरण के मामले में 1750 साल, खतरनाक हथियार से हमले के मामले में 1500 साल और लूटपाट के कुछ मामलों में 500-500 साल की सजा सुनाई गई थी। एलन के साथी को भी अदालत ने कुल 11,250 साल की सजा सुनाई थी।

credit-unsplash

स्पेन के 22 वर्षीय पोस्टमैन गैब्रीअल मार्च ग्रनाडोस को साल 1972 में 3,84,912 साल की सजा सुनाई गई थी। उसे 40 हजार से ज्यादा पत्र और पार्सल डिलिवर न करने का दोषी पाया गया था। अदालत ने प्रत्येक पत्र और पार्सल के बदले उसे 9-9 साल की सजा सुनाई थी। हालांकि, बाद में उसकी लाखों साल की ये सजा घटाकर 14 साल कर दी गई थी।

credit-unsplash

साल 1994 में अमेरिकी राज्य अल्बामा के रहने वाले चार्ल्स स्कॉट रॉबिन्सन नाम के शख्स को अदालत ने रेप के मामले में कुल 30 हजार साल की सजा सुनाई थी। जज ने उसे कुल छह मामलों में 5-5 हजार साल की सजा सुनाई थी। चार्ल्स को इतनी लंबी सजा सुनाने के बाद जज ने बताया कि वह उसे बिना परोल के उम्रकैद की सजा नहीं दे सकते थे, इसलिए उन्होंने इतनी लंबी सजा सुनाई, ताकि वह अपनी बाकी की जिंदगी जेल में ही बिताए। इसका मतलब ये था कि चार्ल्स को पहली परोल तब मिलती, जब उसकी उम्र 108 साल हो जाती।

credit-pixababy

स्पेन की राजधानी मैड्रिड में साल 2004 में हुए ट्रेन विस्फोटों में शामिल आतंकियों में से एक आतंकी ऑथमैन अल नाओई को अदालत ने 42,924 साल की सजा सुनाई थी, जबकि उसके साथी जमाल जोउगम को 42,922 साल की सजा सुनाई गई थी। हालांकि, स्पैनिश कानून कहता है कि किसी को भी 40 साल से अधिक जेल में नहीं रखा जा सकता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here