courtesy-india today

भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) पिछले कुछ वर्षों से क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया (Team India) भी देश के अलावा विदेशों में भी जीत का पताका लहरा रही है।

मॉडर्न क्रिकेट के दिग्गज बल्लेबाजों में शुमार कोहली ने आज ही के दिन यानी 28 फरवरी 2012 को ऑस्ट्रेलिया में कॉमनवेल्थ बैंक ट्राई सीरीज (Commonwealth Bank Series) में श्रीलंका के खिलाफ मुश्किल परिस्थितियों में धमाकेदार शतक जड़ टीम इंडिया को बड़ी जीत दिलाई थी। उस मैच से पहले कोहली ने 81 मैचों में 3100 रन बनाए थे जिसमें 8 शतक शामिल थे।

courtesy-google

भारत के सामने 321 रन का टारगेट था
इस जीत में सबसे बड़ी बात यह रही कि भारत ने श्रीलंका के क्वालिटी गेंदबाजों के खिलाफ 321 रन का टारगेट आसानी 36.4 ओवर में ही हासिल कर लिया था। श्रीलंका ने तिलकरत्ने दिलशान के 160 और कुमार संगकारा के शतक के दम पर 320 रन स्कोर बोर्ड पर टांगे थे।

सचिन-सहवाग ने दिलाई अर्धशतकीय शुरुआत
लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने वीरेंदर सहवाग (Virender Sehwag)और सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar) के दम पर 6.4 ओवर में 54 रन जोड़ डाले। इसके बाद दोनों ओपनर्स अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पाए। सहवाग के बाद तेंडुलकर के 10वें ओवर में आउट होने के बाद विराट कोहली क्रीज पर गौतम गंभीर का साथ देने आए।

सहवाग और सचिन के शानदार शुरुआत दिलाने के बावजूद भारतीय टीम मुश्किल परिस्थितियों में थी। इसके बाद कोहली और गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने जिम्मेदारी उठाई। दोनों ने श्रीलंकाई आक्रमण लसिथ मलिंगा (Lasith Malinga), नुवान कुलासेकरा, फरवीज महारूफ और रंगना हेराथ का डटकर सामना किया।

कोहली ने गंभीर के साथ 115 रन की साझेदारी की
होबार्ट में खेले गए इस मैच में कोहली की बैटिंग देखने लायक थी। कोहली ने दबाव में जिस तरह से बल्लेबाजी की वह काबिलेतारीफ थी। विराट ने मलिंगा के सटीक यॉर्कर पर खूब चौके जड़े। कोहली और गंभीर ने तीसरे विकेट के लिए 115 रन जोड़े।

courtesy-india today
गंभीर इसके बाद 63 रन बनाकर आउट हो गए। भारत को अब यहां से 76 गेंदों पर जीत के लिए 121 रन की जरूरत थी। इसके बाद श्रीलंका ने भारतीय बल्लेबाज सुरेश रैना पर दबाव बनाना शुरू किया जो पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरे थे। दबाव में कोहली ने अपना गियर बदला। उन्होंने इसके बाद मलिंगा और कुलासेकरा की गेंदों की धुनाई शुरू की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here