Uttarakhand Weather Update Today: 500 people stuck in niatal kairna, Indian Army Soldier reached


10:08 AM, 20-Oct-2021

सेना का हेलीकॉप्टर एनडीआरएफ के जवानों को लेकर ओखलकांडा रवाना

सेना का हेलीकॉप्टर एनडीआरएफ के छह जवानों को लेकर ओखलकांडा के थलाड़ी के लिए रवाना हो चुका है। प्रशासन सहित 20 लोगों की टीम को भी हेलीकॉप्टर से भेजा जा रहा है।

09:57 AM, 20-Oct-2021

मकान में दबे छह लोगों की खोजबीन के लिए एनडीआरएफ की टीम रवाना

नैनीताल के ओखलकांडा ब्लॉक के थलाड़ी में एक मकान में दबे छह लोगों की खोजबीन के लिए धारी एसडीएम योगेश सिंह के नेतृत्व में एनडीआरएफ की टीम राहत-बचाव अभियान चला रही है। एसडीएम ने बताया कि वह पंतनगर एयरपोर्ट से एनडीआरएफ की टीम के साथ हैलीकॉप्टर के सहारे धानाचूली के शशबनी में उतरेंगे। जहां से थलाड़ी पहुंचा जाएगा। एसडीएम ने बताया कि सड़क बंद और नेटवर्क न होने से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

09:49 AM, 20-Oct-2021

नैनीताल जिले में ये है सड़कों की स्थिति

हल्द्वानी-भीमताल रोड, भवाली-रामनगर-धानाचूली रोड और नैनीताल-काठगोदाम रोड यातायात के लिए खुली है। वहीं नैनीताल-भवाली रोड, मोहन-बेतालघाट रोड, खुटानी-पदमपुरी-धानाचूली रोड, ज्योलीकोट-भवाली रोड और काठगोदाम-हैड़ाखान रोड अभी भी बंद है।

09:45 AM, 20-Oct-2021

नैनीताल-कालाढूंगी मार्ग यातायात के लिए खुला

भारी बारिश के कारण मंगलवार को बाधित हुआ नैनीताल-कालाढूंगी मार्ग बुधवार को यातायात के लिए खोल दिया गया है। यहं जानकारी डीजीपी अशोक कुमार ने एएनआई न्यूज एंजेसी को दी है। वहीं मड हाउस के पास हल्द्वानी हाईवे भी यातायात के लिए खोल दिया गया है। हल्द्वानी-नैनीताल हाईवे दुपहिया वाहनों के लिये खुल गया है।

09:34 AM, 20-Oct-2021

चारधाम यात्रा हुई सुचारू, मौसम सामान्य होते ही पकड़ी रफ्तार

चारधाम यात्रा फिर से सुचारू हो गई है। मौसम सामान्य होते ही यात्रा ने रफ्तार पकड़ ली है। बुधवार से केदारनाथ धाम यात्रा भी शुरू हो गई है। हालांकि बदरीनाथ हाईवे बंद होने के कारण फिलहाल बदरीनाथ यात्रा शुरू नहीं हो सकी है। यमुनोत्री-गंगोत्री धाम यात्रा मंगलवार से शुरू हो चुकी है। बता दें कि खराब मौसम के चलते चारधाम यात्रा रोक दी गई थी।

09:23 AM, 20-Oct-2021

राजधानी दून में निकली चटक धूप, बुधवार को मौसम साफ

बुधवार को राजधानी देहरादून सहित अधिकतर इलाकों में मौसम साफ बना हुआ है। इससे लोगों ने राहत की सांस ली है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ और दक्षिणी पूर्वी हवाओं का असर अब न के बराबर है। उत्तराखंड के मैदानी और पर्वतीय क्षेत्रों में इसका प्रभाव सिर्फ 48 घंटे के लिए ही था। बुधवार को अधिकतम तापमान 31 डिग्री रहेगा।

09:13 AM, 20-Oct-2021

उत्तराखंड में आई आपदा में अभी तक 46 लोगों की मौत

सोमवार और मंगलवार को उत्तराखंड में आई आपदा में 46 लोगों की मौत हुई है। वहीं 12 लोग घायल हैं और 11 लोग लापता हैं। इस आपदा में नौ घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। नेचुरल डिजास्टर इंसीडेंट रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।

09:11 AM, 20-Oct-2021

आपदा प्रभावित इलाकों को हवाई मुआयना करेंगे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

आज बुधवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी आपदा प्रभावित इलाकों को हवाई मुआयना करेंगे। इससे पहले बुधवार को मुख्यमंत्री धामी ने हल्द्वानी स्थित काठगोदाम सर्किट हाउस में लोगों की समस्याएं सुनीं।

मुख्यमंत्री ने मंगलवार शाम रुद्रपुर क्षेत्र में जलभराव से हुए नुकसान का जायजा लिया था। उन्होंने आपदा में जान गंवाने वालों के परिजनों को चार लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा भी की। 

09:01 AM, 20-Oct-2021

आज शाम गृह मंत्री अमित शाह पहुंचेंगे उत्तराखंड

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बुधावर की शाम उत्तराखंड पहुंचेंगे। वह यहां आपदा को लेकर समीक्षा बैठक करेंगे और स्थिति का जायजा लेंगे। गृह मंत्री अमित शाह गुरुवार को उत्तराखंड में आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे।

08:50 AM, 20-Oct-2021

खाना देने के साथ ही पीड़ितों की मेडिकल जांच भी कर रही सेना

वर्तमान में डोगरा बटालियन की एक टुकड़ी अल्मोड़ा-गरमपानी मार्ग में, एक टुकड़ी खैरना में और एक टुकड़ी कैंची धाम में राहत का कार्य कर रही है। वहीं नैनीताल के खैरना में मार्ग बंद होने से 500 लोग बुधवार सुबह से फंसे हुए हैं।

फंसे हुए लोगों के लिए भोजन तैयार कर रहे जवान

सेना द्वारा इन्हें खाने का सामान दिया गया है। खैरना में स्थित स्कूल में सेना के जवान फंसे हुए लोगों के लिए भोजन तैयार कर रहे हैं। साथ ही में पीड़ित लोगों की मेडिकल जांच भी की जा रही है। 

सोमवार और मंगलवार को आई आपदा में सबसे ज्यादा नैनीताल जिला प्रभावित हुआ है। कई जगहों पर मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं और कुछ के हताहत होने की भी खबर है। स्थानीय प्रशासन, पुलिस, एसडीआरएफ को बचाव कार्य में लगाया गया है। हालांकि, रुकावटों के कारण कई स्थानों पर पहुंच संभव नहीं हो पा रही है।

08:34 AM, 20-Oct-2021

उत्तराखंड में बारिश का कहर: नैनीताल के ओखलकांडा में मलबे में दबे लोगों की खोजबीन को एनडीआरएफ की टीम रवाना

उत्तराखंड के नैनीताल जिले में लगातार बारिश के कारण भूस्खलन से कई सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं। जिस वजह से यहां आम नागरिक फंस गए हैं। वहीं आपदा की इस घड़ी में रानीखेत की 14 डोगरा बटालियन देवदूत बनकर उभरी है। अकेले कुमाऊं में प्रलयंकारी बारिश ने सोमवार रात और मंगलवार को भारी तबाही मचाई है।

भूस्खलन, मकान ढहने, पानी में दौड़ते करंट आदि से कुमांऊ में 37 लोगों की मौत हो गई है, जबकि कुछ लोगों के गायब होने की भी आशंका जताई जा रही है। नैनीताल में 27, अल्मोड़ा में नौ और चंपावत, पिथौरागढ़, बागेश्वर और ऊधमसिंह नगर में एक-एक व्यक्ति की आपदा में मौत हुई है। पूरे उत्तराखंड में आपदा से 42 लोगों की मौत हुई है। वहीं आज बुधवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी आपदा प्रभावित इलाकों को हवाई मुआयना करेंगे।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने मंगलवार शाम रुद्रपुर क्षेत्र में जलभराव से हुए नुकसान का जायजा लिया। उन्होंने आपदा में जान गंवाने वालों के परिजनों को चार लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा भी की। कहा कि आपदा में जिन लोगों के मकान टूटे हैं, पर्वतीय क्षेत्रों में उन्हें एक लाख नौ हजार और मैदानी क्षेत्रों में 95 हजार की मदद दी जाएगी। जिन लोगों के घरों में पानी घुसकर सामान बहा है, उन्हें पांच हजार रुपये दिए जाएंगे। आपदा में कृषि को भी काफी नुकसान पहुंचा है, इसका आकलन किया जा रहा है। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here